Khabarhaq

तावडू अनाज मंडी में फसल खरीद नहीं हुई तो आक्रोशित किसानों ने लगाया चौक पर जाम।

Advertisement

तावडू अनाज मंडी में फसल खरीद नहीं हुई तो आक्रोशित किसानों ने लगाया चौक पर जाम।
डीएसपी के आश्वासन पर खुला ढाई घंटे का जाम,एसडीएम फोन पर ही देते रहे आश्वासन,
सरकारी रेट 5600 रु क्विंटल, बाहर 4850 में निजी दुकानों पर बेचने पर किसान मजबूर।
नसीम खान 
तावडू, 
शहर की नई अनाज मंडी में शनिवार को जब किसानों की सरसों की फसल नहीं खरीदी गई तो कुछ किसानों ने सरकारी रेट 5600 रुपए प्रति क्विंटल होने के बावजूद 4850 रुपए प्रति क्विंटल में बाहर निजी दुकानों पर बेच डाली।
शनिवार को किसानों की फसल की खरीद नहीं हुई तो वह गुस्से में सड़क पर उतर आए। किसानों का आरोप है की मंडी से गेट पास जारी होने के बाद भी फसल नहीं खरीदी गई तो बड़ी संख्या में एकत्रित गुस्साए किसानों ने नगर के पटौदी चौक पर ट्रैक्टरों को खड़ा कर जाम लगा दिया। करीब ढाई घंटे तक जाम लग रहा फिर डीएसपी मुकेश कुमार के आश्वासन पर किसानों ने जाम खोल दिया।इससे जहां प्रशासन में हड़कंप मच गया तो वहीं जाम लगने के कारण राहगीर और वाहन चालक घंटे जाम में फंसे रहे। एसडीएम किसानों को बार-बार फोन पर ही आश्वासन देते रहे लेकिन किसान जाम खोलने को तैयार नहीं हुए।
किसानों का कहना था कि पहले मंडी में बुलाया गया और फिर फसल की खरीद नही की गई।यह उनके साथ बड़ा धोखा हुआ।
जाम में मौजूद रहे लालचंद आर्य और राजेंद्र,प्रदीप,जितेंद्र आदि ने बताया कि शनिवार को वह ट्रैक्टरों में अपनी फसल को भरकर मंडी में पहुंचे थे। ज्यादातर ट्रैक्टर किराए पर थे।सुबह से ही समय लाइन में खड़े रहे। लंबे इंतजार के बाद फिर गेट पास जारी हुआ लेकिन फसल नहीं खरीदी गई।मार्केट कमेटी सचिव से गुहार लगाई। जिनके माध्यम से बताया गया हैफेड द्वारा खरीद पूरी कर ली गई। अब हरियाणा वेयरहाउस की ओर से खरीद की जानी है।हरियाणा वेयरहाउसिंग की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक खरीद को लेकर उनकी तैयारियां पूरी नहीं है। जिसके चलते शनिवार को फसल की खरीद नहीं हो सकी। इससे किसान क्रोधित हो गए जिन्होंने सरकार और प्रशासन के विरुद्ध नारेबाजी शुरू कर दी। किसानों का कहना था कि यह सरकार की जिम्मेदारी है की मंडी में खरीद को लेकर समुचित व्यवस्था की जाए। मंडी प्रशासन द्वारा जारी रोस्टर के मुताबिक ही वह फसल बेचने के लिए पहुंचे थे लेकिन गेट पास जारी होने के बाद भी फसल नहीं खरीदी गई। गुस्साए किसान सभी गेट पासों को दिखाते हुए पटौदी चौक पर पहुंचे। जहां उन्होंने ट्रैक्टरों को खड़ा कर जाम लगा दिया सरकार के विरुद्ध नारेबाजी करने लगे। इस घटनाक्रम को लेकर एसडीएम संजीव कुमार का कहना है कि मंडी में फसल खरीद के लिए एजेंसी में बदलाव किया गया है। अब हरियाणा वेयरहाउस की ओर से फसल की खरीद होगी। जिसकी समुचित व्यवस्था की जा रही है। हालांकि वह किसानों द्वारा लगाए गए जाम को खुलवाने में कामयाब नहीं हो सके। एसडीएम उन्हें फोन पर ही आश्वासन देते रहे।
करीब ढाई घंटे तक नगर के पटौदी चौक पर जाम लगा रहा। आखिर में डीएसपी मुकेश कुमार नगर के पटौदी चौक पर किसानों के बीच पहुंचे। जिन्होंने करीब 20 मिनट तक किसानों समझाने का प्रयास किया। डीएसपी ने l किसानों को मंडी में फसल बेचने का आश्वासन दिलाया। इसके बाद किसान शांत हो गए तो जाम को खुलवा गया। हालांकि जाम के कारण नूंह,सोहना मार्ग पर से गुजरने वाले वाहन जाम में फंसे रहने से परेशान हो गए।
Khabarhaq
Author: Khabarhaq

0 Comments

No Comment.

Advertisement

हिरयाणा न्यूज़

महाराष्ट्र न्यूज़

हमारा FB पेज लाइक करे

यह भी पढ़े

मेवात को करीब 800 टीजीटी और पीजीटी अध्यापक मिलने के बाद भी भारी टोटा  • नूंह जिला केवल डीईओ और एक बीईओ के सहारे चल रहा है। • मेवात शिक्षा केडर को मिले करीब 325 पीजीटी अध्यापक  • जल्द ही जेबीटी अध्यापक मिल सकते हैं। • जिले में अभी भी करीब 4900 अध्यापकों की भारी कमी है।

मेवात के पुलिस कप्तान विजय प्रताप बोले :- जनता के सहयोग से मेवात को अपराध व नशा मुक्त बनाया जाएगा • अपराधी, अपराध छोड़ दें या फिर जिला, किसी को बख्शा नहीं जाएगा • एसपी का पदभार संभालने के बाद पहली बार पत्रकारों से रूबरू हुए।

Please try to copy from other website