Khabarhaq

तावडू में ओलावृष्टि से हुए क्षेत्र के दो दर्जन से अधिक गाँवो में फसलों को पहुंचा भारी नुकसान।

Advertisement

तावडू में ओलावृष्टि से हुए क्षेत्र के दो दर्जन से अधिक गाँवो में फसलों को पहुंचा भारी नुकसान।

 

बदले मौसम ने मंडी प्रबंध की भी प्रशासन की भी खोली पोल,भीगती रही फसल।

 

किसानों ने की स्पेशल गिरदावरी की मांग।

 

मंत्री संजय सिंह पहुंचे निरीक्षण करने।

 

 

नसीम खान

तावडू,

बीते शुक्रवार शाम क्षेत्र में अचानक आए मौसम में बदलाव के दौरान तेज हवाओं के साथ हुई ओलावृष्टि से करीब दो दर्जन से अधिक गाँवो में फसलों को भारी नुकसान हुआ है। ओलावृष्टि से हुए नुकसान को लेकर क्षेत्र के किसानों ने विशेष गिरदावरी की मांग की है। नवनियुक्त मंत्री संजय सिंह भी क्षेत्र में फसल का निरीक्षण करने पहुंचे। इसके बाद उन्होंने संबंधित विभागीय अधिकारियों को जरूरी दिशा निर्देश दिए। वहीं तेज हवाओं के साथ हुई ओलावृष्टि ने सरकार द्वारा मंडी में किसानों के लिए किए गए प्रबंध की भी पोल खोल दी। जहां पर किसानों की फसल भीगती रही,लेकिन मंडी प्रशासन की ओर से कोई पर्याप्त प्रबंध देखने को नहीं मिले। वहीं किसानों का आरोप है कि हमसे सरसों की पर बोरी पर 10 रुपिए आड़ती लेवर द्वारा लिए गएहैं। नाराज किसानों का कहना है कि जब हमारी सरसों की फसल खरीदनी ही नहीं थी तो हमें मंडी बुलाया ही क्यों और हमारा समय क्यों खराब किया इससे अच्छा तो हम बाहर सस्ते दामों में बेच देते इससे हमारे सरसों खराब तो नहीं होती और हमें बार-बार जगह पर हर जाना तो नहीं देना पड़ता इसे साफ जाहिर होता है कि सरकार द्वारा किए गए बड़े-बड़े वादों की पोल खुलती नजर आ रही है। इससे क्षेत्र के किसानों में प्रशासन के प्रति भारी नाराजगी देखी गई। तवहीं दूसरी ओर तेज हवाओं के दौरान क्षेत्र में 15 से अधिक बिजली पोल भी टूट गए। रानीयाकि और सीलखो फीडर पर रात भर बिजली आपूर्ति बाधित रही। बिजली विभाग के अधिकारियों ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा है कि निगम को हुए नुकसान का आकलन किया जा रहा है। बिजली आपूर्ति को शाम तक सुचारू रूप से चालू कर दिया जाएगा।

क्षेत्र के किसान अख्तर अली, आजाद इकबाल,भुरू, बशीर व अनिल आदि ने बताया कि ने गेहूं की फसलों के साथ सब्जी की खेती में भी भारी नुकसान हुआ है। ओलावृष्टि के कारण ज्यादातर फसल टूट कर बिछ गई। सरकार व प्रशासन से आग्रह है कि विशेष गिरदावरी कर फसलों में हुए नुकसान की भरपाई की जाए। किसानों का कहना है कि क्षेत्र में लोगों का कृषि ही एकमात्र व्यवसाय है। लेकिन मौसम की करने उनको भारी नुकसान पहुंचा दिया है। किसानों को फसल में हुए नुकसान को लेकर मंत्री संजय सिंह निरीक्षण करने पहुंचे।उन्होंने तावडू नायब तहसीलदार अरुण चौहान और खंड कृषि अधिकारी डॉ श्याम सुंदर को जरूरी दिशा निर्देश दिए। वहीं जननायक जनता पार्टी के नेता अख्तर अली ने कहा कि मंत्री व्यापारियों के साथ फोटो सेशन करने के लिए एक खेत में पहुंचे थे,जहां पर कोई किसान नहीं था। जिन गांवों में किसानों को फसल का नुकसान हुआ है वहां पर मंत्री ने पहुंचना उचित क्यों नहीं समझा ? यह समझ से परे है।

बता दे कि शुक्रवार की शाम अचानक मौसम ने करवट बदली और तेज हवाओं के साथ भारी ओलावृष्टि हुई। जिनमें गेहूं की फसल के साथ सब्जी की खेती में भी भारी नुकसान हुआ है। क्षेत्र के गांव रंगाला,राठीवास,खोरी कला,खोरी खुर्द,सुनारी,डिढारा,तावडू, कालर पुरी और जोरासी में करीब 50 प्रतिशत नुकसान की आशंका जताई जा रही है। जबकि कांगरका,गोयला, निजामपुर,डींगरहेड़ी,शेखपुर,सबरस,गुढा, गोगजाका,कलियाका,डालावास,पढ़ेनी,रानियाकी,सेवका आदि गांवों में 30 प्रतिशत से अधिक नुकसान माना जा रहा है।

 

Khabarhaq
Author: Khabarhaq

0 Comments

No Comment.

Advertisement

हिरयाणा न्यूज़

महाराष्ट्र न्यूज़

हमारा FB पेज लाइक करे

यह भी पढ़े

मेवात को करीब 800 टीजीटी और पीजीटी अध्यापक मिलने के बाद भी भारी टोटा  • नूंह जिला केवल डीईओ और एक बीईओ के सहारे चल रहा है। • मेवात शिक्षा केडर को मिले करीब 325 पीजीटी अध्यापक  • जल्द ही जेबीटी अध्यापक मिल सकते हैं। • जिले में अभी भी करीब 4900 अध्यापकों की भारी कमी है।

मेवात के पुलिस कप्तान विजय प्रताप बोले :- जनता के सहयोग से मेवात को अपराध व नशा मुक्त बनाया जाएगा • अपराधी, अपराध छोड़ दें या फिर जिला, किसी को बख्शा नहीं जाएगा • एसपी का पदभार संभालने के बाद पहली बार पत्रकारों से रूबरू हुए।

Please try to copy from other website